हमारी नवीनतम पत्रिका देखें

जय-जय हिंदुस्तान

इतना आगे हम बढ़ें, देखे जगत-जहान,
सारी दुनिया मिल कहे, जय-जय हिंदुस्तान।

ना झगड़ा मतभेद ना, ना आपस में बैर,
एक पटल पर बैठ कर, सबकी माँगें खैर।

आपस में हरदम रहे, सुखद सरल संवाद,
खुशहाली परिवेश में, देश रहे आबाद।

आजादी के पर्व पर, बस इतना सन्देश,
धर्म जात हर पंथ से, ऊपर रखना देश।
-चौ. मदन मोहन समर